SBA Solution – Organizing morning assembly – Contribution to School programmes

NIOS DELED SBA Solution, Free Download SBA Solution File in Hindi, How to write Organizing morning assembly, solution – answer For Organizing morning assembly in DELED Contribution to School programmes, Free Pdf File Download for Contribution to School programmes, Full Solution In Hindi, gujarati And English. Comming Soon Other lanuage ( Assamese, Bengali, Kannad, Odia, Punjabi, Telugu, Tamil, Marathi) Free Download NIOS DELED SBA File Format And Solution.

मॉर्निंग स्कूल असेंबली का आयोजन – Organizing morning assembly

  • सुबह की प्रार्थना सभा का आयोजन

प्रार्थना शब्द का अपने आप में एक व्यापक अर्थ है | सभी विधालयों में प्रार्थना सभा एवं पाठ्य गतिविधियाँ दोनों आवश्यक रूप से होना चाहिए | प्रार्थना करने से छात्रों के अन्दर मानवीय गुण जैसे – दया, अहिंसा , ममता, परोपकार, सहनशीलता, उच्च-विचार, सादगी आदि गुण पैदा होते है |

प्रार्थना सभा में पाठ्यक्रम से सम्बंधित छात्रों में कुछ गतिविधिया भी करानी चाहिए जैसे- प्रार्थना सभा में मुख्य समाचार पढ़ना, सामान्य-ज्ञान के पांच प्रश्नों को पूछना, कहानी या किसी महान व्यक्ति के विषय में बताना आदि क्रियाओं द्वारा हम छात्रों में बौद्धिक गुण, मनोवैज्ञानिक गुणों का विकास कर सकते है|

Contribution to School programmes

(ii) प्रार्थना सभा का उद्देश्य:

एक विद्यालय में प्रार्थना सभा से निम्न महत्त्व है

 छात्रों के अन्दर मानवीय गुणों का विकास करना

 छात्रों के अन्दर मन को एकाग्र करने की क्षमता का विकास होना

 प्रार्थना सभा से छात्रों के अन्दर समय के प्रति प्रतिबद्ध हो जाना

 प्रार्थना से छात्रों के अन्दर एक ऊर्जा पैदा होना जिससे वह शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में रूचि लेते है

 प्रार्थना से छात्रों के अन्दर आत्मविश्वास की भावना जागृत करना

 Click And Download : DELED SBA – Case study File Format

– कक्षा-वार सभा की व्यवस्था:

प्रार्थना सभा में कई तरह की गतिविधिया की जाती है. इसमे छात्र को अपनी कक्षा के अनुसार भी कई गतिविधिया करायी जाती है. इसलिए हमने पहले से तय समय सारणी के आधार से छात्रो को अपनी कक्षा के क्रम में बैठते है. कक्षा 1 और 2 के छात्रो की बैठक में अग्रिमता दी जाती है. और इस तरह का आयोजन पाठ्यक्रम से सम्बंधित गतिविधिया कराने में अनुकूल होता है. सभी छात्र अपनी पक्तियो में बैठते है और अपने साथी छात्रो के साथ प्रार्थना की गतिविधियाँ का आनद लेते है.

– अनुशासन का रखरखाव:

हमने पहले से छात्रो को बता दिया है की प्रार्थना विद्यालय के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण गतिविधि है. इसका सबंध आपके अध्यापन के साथ जुडा हुआ है. और इसमे सभी बच्चो को शिस्त का पालन करना होगा.

हमारी प्रार्थना सभा के घटक और कार्यक्रम ही ऐसे सुयोजित किये गए है की अनुशासन के लिए कोई अतिरिक्त तैयारी या रखरखाव की नौबत नहीं आती है.

– आयोजित कार्यक्रम – गतिविधियों की सूची:

योग – ध्यान 

प्रात: स्मरण

दीप प्रजवलन

एकता मंत्र

सर्व धर्म समभाव प्रार्थना

सरस्वती वन्दना

प्रार्थना

हनुमान चालीसा मंत्र

बालगीत ( अभिनय सह )

आजका ज्ञान – आजका दीपक – जन्मदिन मुबारक

प्रश्नोत्तरी और चर्चा मंच

पाठ्यक्रम आधारित गतिविधियाँ

प्रेरक प्रसंग

सुभाषितम

प्रतिज्ञापत्र

राष्ट्रगान

– संचार कौशल :

प्रार्थना सभा का शुरू से अंत तक का संचार छात्रो के द्वारा होता है. प्रति दिन प्रार्थना सभा आयोजन और संचार करने के लिए समय सारणी तय की गयी है. कक्षा 3 से कक्षा 8 तक के सभी बच्चो को इसमे सम्मलित किया गया है. सोम से शनिवार तक का आयोजन करके प्रार्थना मंच पर चिपका दिया है.

प्रार्थना सभा का संचार करने में कई बार छात्र गलती भी करते है. पर इसे सिखने का मौक़ा भी अन्य छात्रो से मिल जाता है.

आयोजित कार्यक्रम के लिए छात्रो को बाँट दिया जाता है. इसके आधार पर प्रार्थना का संचार होता है.

– भाषा स्पष्टता :

जब भी कोई कार्यक्रम का आयोजन होता है इसमे वक्ता की भाषा स्पष्टता महत्वपूर्ण हो जाती है. क्युकी उसके सब्दो से ही कार्यक्रम का संचार होता है. हमने पहले से ही स्पष्टवक्ता छात्रो को प्रार्थना सभा के लिए ट्रेनिंग दे रखी है.

जब प्राथना सभा में प्रार्थना के अलावा और गतिविधियाँ करनी होती है तब भाषा

स्पष्टता से संचार करने वाले वक्ता की जरुरत होती है. ये काम ऐसे छत्रो को दिया जाता है जो इसमे माहिर है. कई बार अन्य छात्रो को भी सीखने का मौक़ा दिया जाता है. CopyRight : www.HindiHelpguru.com

Download DELED All File Format And Solution

– स्पीकर की तैयारी :

स्पीकर यानी जिसे प्रार्थना सभा में ज्यादा से ज्यादा बोलना होता है. इसे कार्यक्रम का संचार करनेवाला वक्ता भी कहाँ जाता है.

हमारी प्रार्थना सभा के संचार के लिए स्पीकर का काम छात्रो को दिया है. सभी छत्रो को इस काम के लिए चुना जाता है. कक्षा 5 से 8 तक के सभी बच्चो का कभी ना कभी स्पीकर का काम दिया जाता है.

स्पीकर का कार्यभार निर्वाह करनेवाले बच्चे को पहले से बता दिया जाता है की कब इसे प्रार्थना सभा के लिए स्पीकर का काम करना है.

स्पीकर बनने वाला छात्र दिन को ध्यान में रखते हुए पहले से आयोजन कर लेता है की मुझे कब क्या बोलना है और क्या करना है. इस आयोजन को किसी अध्यापक के द्वारा प्रमाणित भी किया जाता है. इसके लिए समय समय पर मार्गदर्शन भी दिया जाता है.

श्रोताओं का ध्यान रखने के लिए किये उपाय :

प्रतिदिन प्रार्थना सभा में श्रोता यानी बच्चो का ध्यान रखने के लिए किसी एक बच्चे की नियुक्ति की जाती है. इससे छोटी कक्षा के बच्चो को प्रर्थाना सभा के दौरान होनेवाली समस्याओ को हल कर दिया जाता है.

प्रार्थना सभा के लिए छात्रो की बैठक प्रणाली ही इसी तरह बना ली गयी है की किसी भी छात्र को कोई परेशानी ना हो साथ में अनुशासन भी बना रहे. CopyRight : www.HindiHelpguru.com

(v) गतिविधि के दौरान हुई समस्याएं:

प्रार्थना सभा के दौरान समय की पाबंदी होती है. निश्चित समय रेखा के अनुसार गतिविधियों का संचार करना होता है. विद्यालयों में प्रार्थना के लिए दी जाती समय की अवधि उचित नहीं होती है.

समय की मर्यादित अवधि के कारण सुनिश्चित सभी गतिविधियाँ का संचार नहीं हो पाता है. कई छात्रो को अपने वक्तव्य के दौरान बीच में ही बैठा देना पड़ता है.

दूसरी समस्या ये आयी की जब गतिविधियाँ का संचार किया जाता है तब छोटी कक्षा के बच्चे कुछ समज नहीं पाते है क्युकी ये ऐसी गतिविधियाँ होती है जो कक्षा 5 से 8 तक की बच्चो के लिए होती है. ऐसे समय में छोटे बच्चे सिर्फ देखा करते है या फिर बीच बीच में एक दुसरे से बाते करने लगते है. CopyRight : www.HindiHelpguru.com

(vi) समस्या से संबंधित समाधान के लिए क्या करेंगे ?

  प्रार्थना सभा की अवधि 30 मिनट होनी चाहिए |

 तय समय सीमा में भी सभी गतिविधियाँ हो जाये उसके लिए पूर्व आयोजन और सभी गतिविधियाँ के लिए समय निश्चित करेंगे.

 सभी छात्रों को प्रार्थना सभा के आरंभ के निर्धारित समय में उपस्थित होने के लिए प्रेरित करेंगे.

 प्रार्थना सभा के लिए ऐसी गतिविधियाँ का चयन करेंगे जो सभी कक्षा के छात्रो के लिए हो. सभी इसमे सम्मलित हो सके.

 

(vii) स्कूल के वातावरण पर गतिविधि का प्रभाव

प्रार्थना सभा में की जानेवाली गतिविधिया और आयोजित कार्यक्रम अतिरिक्त किये गए बदलाव से सभी बच्चे प्त्रर्थाना में हिस्सा लेना पसंद करते है. सभी बच्चे प्रार्थना संचार – स्पीकर के लिए अपनी भागीदारी करना चाहते है. विद्यालय में देर से आनेवाले बच्चे भी अब सबसे पहले आ जाते है. CopyRight : www.HindiHelpguru.com

प्रार्थना में आयोजित की जानेवाली अभ्यासक्रम आधारित गतिविधियाँ के कारण अध्ययन – और अध्यापन कार्य में भी इसका असर देखने को मिला है. इतना ही नहीं अब तो छोटी कक्षा के बच्चो को भी कुछ नया सीखने – समझने का मौक़ा प्रार्थना सभा से मिल जाता है.

प्रार्थना सभा के विशिष्ट आयोजन से पुरे दिन बच्चे जोश – प्रसन्नता से अध्ययन कार्य करते है.

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *